लौट के परफेक्ट घर को आए / Mr Perfect Returns To Imperfection

कोई भी काम वह पक्का और परफेक्ट चाहता था ।गलती कोई उसकी न पकड़ ले यही वह सोचता था ।। … More

पूंजी / Capital

भींग जाती है आंखेंजिन्हें दूर जाते देख कर,जरूरी नहीं कि वे अमीरया हमारे अपने ही हों…ये शख़्स होते हैं दिल … More