मौन में / In Silence


बातों ही बातों में
और बातों ही बातों से
कुछ गलतफहमियां बढ़ी
बातें और बढ़ी
फिर दूरियां भी बढ़ी
फिर उसने वह भी सुना
जो मैं ने कहा ही नहीं
और मैं ने वह सुना ही नहीं
जो उसने कहा
क्रोध बढ़ा, चिड़चिड़ापन भी
भ्रम की स्थिति भी बढ़ती गई…

और आवाज तेज होती गई
शोरगुल होने लगा
जबकि हम दोनो पास पास ही थे
नजदीक होकर भी
दूर हो गए एक दूसरे से
जितनी ऊंची आवाज
उतनी ही ज्यादा दूरी…

थक कर शांत हो गए दोनों
अब न आवाज थी न कोई शोरगुल
बस एक अप्रतिम सन्नाटा
फिर शांति थी और था एक एहसास
अपनी गलती का
हम फिर आ गए नजदीक
एक दूसरे को सुनते हुए
अपने मौन में…


🥀🥀🥀🥀🥀🥀🥀🥀🥀


During a general discussion
a few things emerged
cropped up then
some misunderstandings
that further escalated
thus increasing the distance
and then she heard
what I didn’t even say
and I didn’t hear what she said
anger increased, irritability too
the confusion also heightened…

And the voice got louder
we started making noise
while we were both close by
despite sitting close,
we got away from each other
the higher the decibel,
the greater the distance…

Both finally got tired
now there was no sound,
there was no noise
just an eerie silence
there was peace
and a realisation of mistakes
and we came close again
listening to each other
in our silence…


–Kaushal Kishore

images: pinterest

35 Comments

    1. Thank you, Joanna for your kind compliments. I don’t shout, but difference of opinions does exist. This piece is just a depiction of this fact.

      Like

      1. Not at all, Joanna! I can’t even imagine. Thank you for this confidence and yes, this friendship with you.

        Like

    1. Do you know why we shout? It’s because at that moment we get distant with each other, and to make our words heard, we start yelling. Thank you, Nancy for sharing your reflections 😊

      Liked by 1 person

  1. अब यही दिखाई देता है और इसलिए नई पिढी शादी से कतराती है| बहुत सुन्दर, पोश्ट.Sir KK😊

    Liked by 1 person

    1. सिर्फ इसलिए? कुछ और बात भी होगी। बड़ौदा की क्षमा बिंदु खुद से शादी करने वाली है, क्योंकि उसे खुद से प्यार है। खुद से प्यार होना अच्छी बात है, किंतु शादी शायद इसकी पराकाष्ठा है। धन्यवाद Jane पढ़ने और प्रशंसा के लिए।😊

      Like

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s