किताब और मैं / Book and Me


किसी किताब को गर ले आते हो तुम
अपनी आंखों के बहुत ही करीब,
तो उसे पढ़ नहीं सकते तुम
पर मैं कोई किताब नहीं…


📖 📖 📖 📖 📖 📖


If you bring a book
too close to your eyes,
you can’t read it
but I’m not a book…


–Kaushal Kishore

37 Comments

  1. क्या खूब ये इशारा है
    इश्क़ ठहरा मेरा मासूम ओर
    इल्जाम नज़रों पर सारा है
    🙂🙂💕💕

    Liked by 1 person

    1. न तो इश्क का इशारा है
      न किसी पर कोई इल्जाम
      यह तो दिल की बात है
      जो खुद हो जाती है आम
      Thank you and welcome back after a long time 😊💖

      Liked by 1 person

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s