छुप छुप कर / Secretly


कितना फुर्सत होता था कभी
घंटों बैठ खत लिखने और पढ़ने का
छुप छुप कर…
फुर्सत के लम्हे तो आज भी हैं
मगर उन यादों को याद करने के लिए
छुप छुप कर…


📨📨📨📨📨📨📨📨📨


Once upon a time
there used to be
a lot of free time to
write and read letters
secretly…
the moments of leisure
are still there,
but to remember
those memories
secretly…


–Kaushal Kishore


image: pixabay

30 Comments

  1. आपकी पोस्ट बहुत अच्छी है।
    मुझे बहुत अच्छी लगी।
    कृपया मेरी ब्लॉग पोस्ट भी पढ़े।
    ☺️🙏🏻 नमस्कार।

    Liked by 2 people

    1. बहुत बहुत धन्यवाद! आपकी पोस्ट पढ़ी। अच्छा लगा। लिखते रहिए। शुभकामनाओं सहित 🙏💐

      Like

      1. ☺️🙏🏻आपका बहुत बहुत धन्यवाद जो आपने मेरा निवेदन स्वीकार किया और मेरा सहयोग किया।

        Liked by 1 person

      2. मैंने पहली बार ब्लॉग शुरू किया हैं।
        कृपया फॉलोअर्स व लाइक कैसे बढ़ाएं ये बता दीजिए। 🙏🏻😌

        Liked by 1 person

      3. सिर्फ़ लिखते रहिए, पोस्ट करते रहिए और दूसरे लोगों के पोस्ट पढ़ कर लाइक, कमेंट और फॉलो करते रहिए। All the best 👍

        Like

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s