ग़लत या सही / Wrong or Right


मुझे नहीं पता
क्या सही है क्या गलत…


लेकिन सूर्यमुखी के फूल
की तरह जिधर प्यार मिले
उधर ही यदि मैं घूम न जाऊं,
अपनों से मैं प्यार न कर पाऊं,
उनसे आंखों में आँखें डाल कर
बात न कर पाऊं,
तो मुझे लगता है
मैं गलत रास्ते पर हूं…


लेकिन अगर मैं लोगों
को समझ और समझा पाऊं,
उनके साथ चल पाऊं,
अपने शब्दों और कृत्यों से
मुस्कान, खुशियां और सुकून
दे पाऊं उन्हें,
तो मुझे लगता है
मैं सही रास्ते पर हूं…


▶️ ◀️ ▶️ ◀️ ▶️ ◀️


I don’t know
what is right or wrong…


But like a sunflower
if I don’t lean to
where love is,
if I can’t love
my own people,
if I can’t talk to them
looking straight in their eyes,
then I think
I’m on the wrong path…


But if I can understand people
and explain properly to them,
if I can walk with them,
if my words and deeds
make them smile,
happy and comfortable,
then I think
I’m on the right path…


–Kaushal Kishore

24 Comments

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s