मेरा दिल / My Heart


हर पल यह थपेड़े खाता रहता है
पर पक्का मकान मिला न इसे…
जहां भी थोड़ी बारिश हुई
यह टपकने लगता है आंखों से…
न लोग समझ पाते हैं
न मेरा यह दिल…


💌💌💌💌💌💌


It gets thrashed every moment
but hasn’t got a solid house…
wherever it rains a little
it starts dripping through eyes
neither people understand
nor this heart of mine…


–Kaushal Kishore

35 Comments

  1. दिल को अगर मिल गया पक्का मकान
    सारे शायरों की बन्द हो जायेगी दुकान
    Sir दिल का ये हाल बढ़िया तरह से बताया आपने,,👌💐💐

    Liked by 1 person

    1. हाहा, तब इल्जाम यह लगाएंगे कि दिल को कैद कर के रखा है। कुछ तो रास्ता निकाल ही लेंगे दुकान जारी रखने के लिए। कविता अच्छी लगी, इसके लिए धन्यवाद 😊💐💐

      Liked by 1 person

      1. हाहा सही कहा आपने
        शायरों की शायरी वजह बेवज़ह, जगह बेजगह,
        पल या सारा जीवन , बस बहती हैं

        Liked by 1 person

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s