तितली के पंख / The Butterfly Wings

उस दिन मैं ने अपने गलियारे में
उसे फिर देखा था
अपने कमनीय सौंदर्य के साथ
पंख फैलाए हुए
लगा मानों भटके हुए रास्ते से 
वापस आ गई हो मेरे पास
कलाकृतियां उसके चार पंखों पर
हमेशा लुभाती रही है मुझे
मैं उसके करीब गया
एक बार फिर
छूने की चाहत हुई उसे
मैं ने अपना हाथ बढ़ाया
उसने फिर पंख फड़फड़ाया
और उड़ गई छोड़ मेरे हाथों में
एक हल्की सी रंगीन लकीर
जो आधारशिला बन गई
मेरी कविताओं के
उस शानदार महल की
जिसमें सुकून तो मिला
पर मेरी जिंदगी का आधार नहीं…
तड़पता रहा मैं अपनी
पुरानी मधुर स्मृतियों के सपनों में,
जिंदगी के कटु सत्य के सामने
जब अक्षर बौने लगने लगें…
बंधन चाहे महलों का हो
या शब्दों का
अंत तो होना है
मौसम करवट लेता है
तितलियां भी आज़ाद हैं
मेरी बांहों के नीचे भी
पंख उग आए हैं
अब मुझे भी उड़ना है
अपने सपनों के साकार होने तक…

🦋🦋🦋🦋🦋🦋🦋🦋🦋

The other day I saw her again
in my corridor
spreading her wings
with ravishing beauty
as if she had come back
after losing her track
artwork on her four wings
has always fascinated me
I went to her
wished to touch her
feel her once again
I raised my hand
she flapped her wings
and flew back again
leaving a light tinge of streak
this time in my hands
that formed the cornerstone
of the magnificent palace
of my poems,
an abode of solace
but it was not the cornerstone
of my life…
experiencing pangs of the
dreams of old sweet memories,
the alphabets started getting
dwarfed in the face of
the stark reality of life…
whether the bondage
is of palaces or of words
there has to be an end,
the weather turns eventually
the butterflies are always free
the wings have grown
under my arms too
now I too have to fly
till my dreams come true…

–Kaushal Kishore

53 Comments

  1. मैं उसके करीब गया
    एक बार फिर
    छूने की चाहत हुई उसे
    मैं ने अपना हाथ बढ़ाया
    उसने फिर पंख फड़फड़ाया
    और उड़ गई छोड़ मेरे हाथों में
    एक हल्की सी रंगीन लकीर
    जो आधारशिला बन गई
    मेरी कविताओं के – बहुत सुंदर पंक्तियां

    Liked by 2 people

    1. So sorry, Joanna, I was deprived of your valuable feedback. But don’t worry. I can understand. You please take care. My best wishes!!

      Like

  2. Wow KK, this has to be one of my favorites of yours. So many amazing lines…I especially like “palace of poems” and that epic ending!! Spectacularly written, my dear friend!!!! I absolutely love it 🖤🤗

    Liked by 1 person

  3. What a compassionate message of hope and choosing Life. I love your these lines in your closing:
    “…the weather turns eventually
    the butterflies are always free..”
    It almost played in my head like music and lyrics So haunting Kaushal

    Liked by 1 person

    1. I really appreciate your loving and inspiring words. Thank you Karima. Your thoughtful comment truly means a lot 🙏💐

      Like

  4. ये बहुत सुन्दर रचना है कि तितलियों की पंख का वर्णन और यही अब भी साक्षात्कार रंगीन है 👌🌷
    बचपन से आज तक हमें आकर्षित करते रहते हैं ये तितलियाँ । हमारी ज़िंदगी कई मामलों से जुड़े हुए
    तो भी हमारे आसपास इन को देखते वक्त हम बहुत प्रसन्न होकर प्रकृति की ये अनोखी जीवन और
    उन की रंगबिरंगी पंखों की सौन्दर्य से लीन जाते है 👍🏻👏🌷मेरी कोमेंड 🙏🌷😊

    Liked by 1 person

    1. बिल्कुल सही कहा आपने। तितलियां हमे बचपन से आकर्षित करती रही हैं। बहुत बहुत धन्यवाद 🙏💐🌷

      Liked by 1 person

    1. We treat nature as mother that nourishes and nurtures us. It’s truly a great inspiration. Thank you, Diana for your kind words 🙏💐💖

      Like

  5. बचपन के खेलों की छाप से लेकर जिंदगी की चाहत के सार तक भावनात्मक समन्वय …बहुत सुंदर प्रस्तुति। पढ़ कर आनंद आया।🎉

    Liked by 1 person

    1. मुझे बहुत अच्छा लगा और संतोष हुआ आपकी इस टिप्पणी को पढ़ कर। आपका हार्दिक आभार 🙏💐

      Like

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s